Nazdeekiyaan

Leheron si hai ye gustaakhiyaan,

Haqeeqat lagne lagi hai wo kahaniyaan,

Jab se mile ho tum humse…

Palkon par rehne lagi hai betabiyaan!!!


Meri parcchai bhi chup-chup ke

Tumhare saaye me ghulne lagi hai,

In labon par ek laali

Aajkal sharm se sarakne lagi hai,

Wo aahaatein, wo aadataein,

Ab lazimi lagne lage hai…

Jabse mila hai tumse khushiyon ka zariya!

Na jaane kab utar gayi jo darmiyaan thi dooriyaan

Khushamdeed hai dil,

Jo mili hai mujhe hamaari tumhari nazdeekiyaan!!!


Lamhon ki saugaatein

Mujhe tumhare kareeb lati hai,

Raaton ki bebasi

Tumhare khwaabon me guzar jaati hai,

Maikashi me ab wo baat kaha

Jo tumhari aankhon me mil jaati hai,

In saanson ki sargoshi

Tumhari baahon me simat jaati hai!

Guzarti hai in labon se…

Tumhare labon ki madhoshiyaan,

Ek ehsaas jagaati hai…

Tumhari sohabat me ye vaadiyaan,

Aksar bewajah ye dhadkan hothon par machalti hai,

Jab se mili hai mujhe hamaari tumhari nazdeekiyaan!!!


Do dilon ki aisi besabriyaan,

Dooriyon me milne lagi hai nazdeekiyaan,

Jab se mile ho tum humse…

Palkon par rehne lagi hai betabiyaan!!!


~Sahil

Advertisements

Life goes on

The stream of air

Or the stealthy ocean tide,

The morning bizarre

Or the silent nights,

The chirping birds

Or the lifeless soul,

The genius mind

Or the empty hearts,

Amidst all these

There lies a life of commotion,

And it always goes on!!!

 

As a kid you desire to grow up,

When you are grown up

You miss being the kid again,

But there is no reverse gear to life

Time keeps passing

And life always goes on!!!

 

Whether you chose to stay locked in past

Or you chose to move ahead,

Whether you chose to hold on to grudges and regret

Or you chose to make a new beginning,

No matter what, there’s only one life

And it always goes on!!!

 

They say people change,

Things change, priorities change,

They say time heals

The biggest of pains,

They say life teaches you various lessons,

But above all there lies a truth…

A cruel and saddest truth…

Life always goes on!!!

 

Hug it, love it, live it,

Learn to let go and learn to accept it

For you never know what it has

In its next door

Let the life take you through its roller coaster

Because life always goes on…

But it’s you who decide to stay locked in past

Or decide to go on!!!

भारत आज़ाद है !?

सुना है
आज भारत आज़ाद है,
सोच रहा हूं
क्या ये सवाल है?
या एक जवाब है!
70वीं सालगिरह का जश्न मना रहे,
मगर आज भी “आज़ादी” के आगे
पूर्ण विराम नही…अल्प विराम है।
आज भारत आज़ाद है,
क्या ये जवाब है?
या एक सवाल है!!!

पूरे देश में धूमधाम है
हर जुबां पर आज हिंदुस्तान है
सोने की चिड़िया को जिन्होंने मुक्त कराया अंग्रेजो से,
उन शहीदों का आज भारतवर्ष में गुणगान है।
कहीं सांस्कृतिक कार्यकर्मो का,
तो कहीं देशभक्ति के गीतों की ताल है
शत-शत नमन है उन लाडलो को
जिन्होंने भारत माँ के लिए किया 
अपना जीवन कुर्बान है _/\_
मगर अफ़सोस ये बस आज ही के दिन का एहसास है,
कल सुबह फिर से वही
तुझमे, मुझमें, अपनों में बँटा
पुराना हिंदुस्तान है।
आज भारत आज़ाद है,
क्या ये जवाब है?
या एक सवाल है!!!

आज दुनिया सिसक रही है धमाकों से
दहशत सी फ़ैल गई है देशभर में
आतंकी इरादों से,
हर रोज़ कही इंसानियत का जनाज़ा उठता है,
हर रोज़ कही कोई गैर देश की इज़्ज़त 
दिन दहाड़े सड़क पर लूटता है
मुसाफिरों की तरह हम बस तमाशा देख गुज़र जाते है
और साल में 2-3 दिन “भारत माता की जय!”
के नारे लगा आते है।
कुछ ऐसी आज इस देश की कहानी है,
आँखों पर काला चश्मा डाले
लुटेरो के हाथों बिक रही देश की जवानी है।
आज भारत आज़ाद है,
क्या ये जवाब है?
या एक सवाल है!!!

हुआ करता था कभी अनेकता में एकता का स्वरुप,
आज वहीँ धर्म, जाति, राष्ट्र पर जल रही देश की अमानत है,
आरक्षण, भ्रश्टाचार, नौकरशाही, आदि में,
हो रही गणतंत्र भारत के संविधान की मानहानि है।
सोशल मीडिया भी हौले-हौले कदम जमा रहा है,
अपनों से दूर और ग़ैरों के पास लिए जा रहा है,
ऐसी नज़दीकियों की वो एक निशानी है।
सपने तो कैद है,
मगर उड़ने की चाह थामी है
दौलत दुनिया भर की कमानी है,
पर देशभक्ति बस आज के दिन की जुबानी है।
आज भारत आज़ाद है,
क्या ये जवाब है?
या एक सवाल है!!!

अमीर-गरीब का भेदभाव आज भी कायम है,
दहेज़ प्रथा आज भी कई इलाकों में पावन है,
अन्धकार में जी रहे है कितने ही गाँव आज भी,
शायद उन्हें पता भी नहीं…
आज के दिन की क्या कहानी है।
सोने की चिड़िया आज एक चिड़िया बन कर रह गई,
अंग्रेज़ो से तो मुक्त हुए
मगर समाज में जकड़े रह गई।
आज भारत आज़ाद है,
क्या ये जवाब है?
या एक सवाल है!!!


70 साल पहले जवाब दे गए थे शूरवीर
अब हमारी बारी है,
देश के भविष्य है हम
इसे सुनहरा भविष्य देना हमारी ज़िम्मेदारी है।
सलाम है जवानों और पुलिस वालों को,
अपनी जान हाथों में लिए घुमते है वतन की खातिर,
पर भारत को सर्वश्रेष्ठ बनाने के लिए
अब हमे भी कमर कसने की बारी है!
इस पहेली को हमे मिलकर सुलझाना है,
सारे जहाँ में,
सारे जहाँ से सुन्दर भारत बनाना है
हिंदुस्तानी होने का हमे दायित्व निभाना है,
“आज़ाद भारत” में अल्प विराम नहीं,
पूर्ण विराम लगाना है।
सुना है
आज भारत आज़ाद है,
सोच रहा हूं
क्या ये जवाब है?
या एक सवाल है!
हमे इस जवाब का सवाल
और सवाल का जवाब
दुनिया को देकर जाना है!!!

जय हिन्द!!! वन्दे मातरम!!!

स्वतंत्रता दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं 🙂

Fursat mile kabhi

Kahin dur kisi jheel ke kinaare

Pancchiyon se gappe ladaate

Hawaaon ko apna geet sunaate

Aur baadalon se bad-badatein,

Baahein khole zindagi baithi hogi!

Tujhse dur,

Iss khokhli duniya se dur

Kalesh aur pyaar ke bazaar se dur

Insaano ke iss khaufnaak jungle se 

Bahut dur!

Tujhse khafaa, 

Maayus aur bebas,

Wo tera intezaar kar rahi hogi

Fursat mile kabhi apne jahaan se…

Toh zara use milte aana!!!

 

Thaamkar jiska aanchal 

Bachpan me sambhalna seekha tha,

Har mushkil mod par

Jiska haath pakadkar chalna seekha tha,

Aaj use hi kisi ki chaukhat par

Chhod aaya hai!

Kisi ke saaye ka peecha karte-karte

Apne saaye ko bhi

Peeche chhod aaya hai!

Ho sake toh thoda waqt nikalkar

Apni parcchai ke saath bethna,

Uss se uska haal puchna

Aur fir, jab fursat mile kabhi dono ko…

Toh zindagi ko…

Zara gale lagaate aana!!!

 

Kuch kehti nahi,

Badi bholi hai bechari

Har dard ki ghadi me,

Hamjoli hai hamari

Gumsum si rehti hai,

Alag si rehti hai

Par apne aap me wo 

Mast rehti hai,

Pasand nahi use

Iss duniya ka jhutha dikhava,

Isliye zara si naraaz rehti hai!

Shayad kuch kehna chahti hai wo

Koi nayi seekh dena chahti hai wo

Bebas, akeli,

Tera intezaar kar rahi hai

Teri raah tak kar,

Apna guzaara kar rahi hai!

Kabhi pata puchke uska,

Fursat mile agar waqt se…

Toh zara…

Zindagi se milte aana!!!

Apne hone ka…

Ehsaas karte aana!!!


-Sahil

Kuch saalon baad…

Kuch saalo baad…

Ye pal bahut yaad aayenge

Jab in aankhon me palte sapne,

Haqeeqat me badal jayenge

Ek dusre ki taang khichne ko taras jayenge,

Jab hum sab apne apne pairon par khade ho jayenge…

Baarish ke mausam me

In yaadon ke aansoon baras aayenge

Jab udaas hone par ek dusre ko…

Gale nahi laga payenge

Khushiyaan toh zamaane bhar ki khareed layenge…

Par khushiyaan baantne ke liye…

Lamhein kam pad jayenge!!!


Chai ki chuskiyaan yaad un dosto ki dilayegi

Dil ke kisi ek kone me jab yaadein uthal-puthal machayegi

Akele jab bhi honge, ye aankhein nam ho jayegi

Ye khatti-meethi baatein jab ek sureela sargam ban jayegi

In palon ko dil kholke jee lo yaaron…

Kyuki zindagi apna ye geet fir nahi gungunayegi!!!


Kuch saalo baad ye pal bahut yaad aayenge

Jab hum sab alag alag rangon me rang jayenge

Haathon se ye haath hamesha ke liye chhut jayenge,

Jab hum sab apni apni raahon par chale jayenge!!!

-Sahil