Me Waqt Hoon!

Me waqt hu…beet jaunga…
Kaisa bhi ho daur…Accha ya bura,
Me nikal jaunga!

Har pal me marta hu
Har pal mera naya janma hota hai,
Ek pal me jee kar marna 
Aur ek pal me mar kar jeena
Sach me yaaron bada kathin hota hai!
Tanha sa firta hu aksar raahon me,
Yun toh kabhi kahi kuch ajnabee mil jaate hai,
Par koi saath nahi deta mukaam paane me!
Bas khaamosh akela har pal yunhi chalta chala jaunga,
Me waqt hu…pal bhar me kat jaunga!!!

Me hawa ki tarah hu,
Behta hun par dikhta nahi!
Uss suraj ki roshni ki tarah hu,
Jise mehsoos kar sakte hai par rok sakte nahi!
Aisa nahi ki muje ehsaas nahi hota
Dil mera bhi hai, me bhi tadapta hu,
Jab koi dard ke aansoon hai rota
Mann karta hai ki tham jau kuch der,
Aur baant lu uska dard uski tadap!
Aisa bhi nahi ki muje khushi pasand nahi,
Aakhir me bhi baccha hu, muje bhi shauk hai
Dusron ki khushiyon me shaamil hone ka,
Magar kya karu…waqt hu…
Ruk nahi paunga…
Dono ko saath liye chalta chala jaunga!!!

Haath thaamke mera tum bhi saath chalo,
Thodi mushkil zarur hai raahein,
Magar yahi hai sahi dagar meri baat suno!
Kisi parcchai kisi saaye ko dekh tum bhatak na jaana,
Jo nikal gaya me aage, toh dhundh nahi paaoge,
Yaad rakhna,
Me waqt hu…mudkar waapas nahi aaunga!!!

Me waqt hu…beet jaunga…
Kaisa bhi ho daur…accha ya bura…
Me nikal jaunga!!!

– Sahil

Advertisements

Kuch-kuch ab me samajhne laga hoon!

Kuch-kuch ab me bhi samajne laga hoon
Wo gupt baatein duniya ki
Jo meri anupastithi me hoti thi,
Aur wo bado ke jhagde aur kisse
Jo band kamre me hi rehte the,
Ab me bhi wo sab sunne laga hoon
Dekhne laga hoon!
Kehte suna hai mene logo ko aajkal,
Kuch kuch ab me bhi bada hone laga hoon!!!

Kehte hai duniya badi ajeeb paheli hai
Hai kuch aur par dikhti kuch aur hai,
Khudme pehle se hi uljha hua me ab aur bhi darne laga hoon!
Duniya me kadam rakhe hi the abhi ki
Duniyadari me ab dhalne laga hoon!
Rote hua muskurana aur hanste hue rona seekh gaya hoon,
Dard apne andar chupakar bado ki tarah ab gale milne laga hoon!
Bhaage ja raha hoon sabki tarah, na jaane jaana kaha hai,
Belagaam lagti hai zindagi, na jaane kis paani ki pyaas hai!
Shaayad zimmedariyan uthakar me bhi ab har roz chalne laga hoon!
Kehte suna hai mene logo ko aajkal
Kuch-kuch ab me bhi kamaane laga hoon!!!

Kisi ke jaane se ab fark nahi padta
Kisi ke aane ka ab jashn nahi hota,
Dusron se ummeedein kam
Aur apne aap me zyaada rehne laga hoon,
Filmon ki duniya hamesha sacchi nahi hoti
Me bhi ab ye samjhne laga hoon,
Kuch apno ko chhod kar
Raah me jo mil gaya bas uske hi saath chalne laga hoon!
Kehte suna hai mene logo ko aajkal
Kuch kuch ab me bhi badalne laga hoon!

Zindagi me sab kuch ab badalne laga hai
Wo subah shaam ka mamool ab itihaas sa lagne laga hai,
Ehsaas hota hai ki ab me thoda sambhalne laga hoon
Betuki baaton ko darkinaar kar, apna ek nazariya rakhne laga hoon!
Kehte suna hai mene logo ko aajkal
Kuch-kuch ab me bhi khaamosh rehne laga hoon!
Ehsaas hota hai kabhi-kabhi…
Kuch-kuch ab me bhi bada hone laga hoon…
Kuch-kuch ab me bhi samajne laga hoon!!!

~ Sahil

Meri Diary!

कहती है मुझसे ये मेरी डायरी,
यूँ प्यार ना कर मुझसे, मुझे आदत ना बना…
यूँ रात के अकेलेपन में मुझे दे ना पनाह,
इस ज़माने के सितम मैं सह ना पाऊंगी…
तेरी आदत जो लगी, तुझे भूल ना पाऊंगी!!!

छोड़ जाएगा एक दिन तू भी किसी शायर की तरह,
वो तन्हाई के सफ़हे, मैं पलट ना पाऊंगी!
ये आधे अधूरे किस्से तू ना सुना मुझे,
कोरे पन्नों की शिकायतें, मैं सुन ना पाऊँगी!
वो गुज़रे रिश्ते समेट कर तू भूल ना जाना,
वक़्त के सैलाब में, मैं डूब जाऊंगी!
मेरे जिस्म पर लिखकर नाम उसका, तू मुझे छोड़ ना जाना,
दर्द-ए-दिल किसीसे, कह भी ना पाऊंगी!
मेरी हँसी को मेरी ख़ुशी ना समझना,
फासलों के झूलों में, अपने कतरें भी ना छुपा पाऊंगी!
अपने दिल की स्याही से यूँ ना सजा तू लफ्ज़ मुझ पर,
कलम की मायूसी को, मैं पहन ना पाऊंगी!
तेरी साँसों की सरक और दिल की धड़कन जो भा गई मुझे,
तेरे रूठ जाने पर, ज़िन्दा ना रह पाऊंगी!!!

कहती है मुझसे ये मेरी डायरी,
यूँ प्यार ना कर मुझसे, मुझे आदत ना बना…
यूँ रात के अकेलेपन में मुझे दे ना पनाह,
इस ज़माने के सितम मैं सह ना पाऊंगी…
तेरी आदत जो लगी, तुझे भूल ना पाऊंगी!!!

~ साहिल

Zindagi

बहुत करीब से मिलने लगा हूँ
ज़िन्दगी तुझसे आजकल,
जैसे कोई मुद्दतों बाद मिलता है अपनों से
बाहों में बाहें डाल कर!

याद है तुम्हें…?
जब तुम रूठ कर बैठ जाया करती थी,
मुझे मालूम है
तुम नज़रें घुमाकर
अक्सर मुस्कुराया करती थी!
बहुत पसंद था ना तुम्हें…
वो लुका-छुपी का खेल,
जाने कहाँ छुप जाती
यूँ हफ़्तों-महीनों तक,
तुम मुझे बहुत सताया करती थी!
हँस लिया करती थी मुझे हरा कर,
पर मुझे मालूम है दोस्त…
मेरी हर हार पर मुझसे छुप कर
तुम ही सबसे ज़्यादा आंसू बहाया करती थी!

बचपन के गलियारों में शोर बहुत था
खुशियां थी…
सपने थे…
सुकून था!
अब तो बस सुस्त अकेली राहें है…
तन्हा किनारें…
पत्तों की सर-सराहट है…
और बेबसी के किस्से!
काफी कुछ बदल गया है
तेरे जाने के बाद,
क्या वक़्त ने खेला है
तुझ पर भी अपना दांव!

मेरी परछाई हर रोज़
मुझसे सवाल करती है,
तुझे ढूंढने को
तेरा पता पूछती है!
मैं टाल देता हूँ हर शाम
अगली सुबह कह कर,
वो हर सुबह उठ कर
तेरा इंतज़ार करती है!

जाने तुम कहाँ छुप गई थी बचपन में
क्या अब तक लुका-छुपी खेल रही थी?
मैं खुद ही खुद से खोने लगा था,
जाने हर सुबह दर्पण में किस से मिलने लगा था!

मिली हो अब तुम 
तो तुमसे बहुत से बातें करनी है,
कुछ शिक़वे, कुछ शिकायतें
कुछ खामोशियाँ बयान करनी है!
तुम नहीं थी 
तो बस साँसें भरने लगा था,
अब जो मिली हो तुम
तो फिर से जीने की लालसा रखने लगा हूँ!
ऐ दोस्त ज़िन्दगी…
तेरी बाहों में सुकून से सोने का मन है,
तेरे आँचल में फिर से
सपने संजोने का मन है!

बड़े करीब से देखने लगा हूं ज़िन्दगी
तेरी अदाओं को आजकल,
चेहरे पर मिलने लगी है
वो बचपन की हर हसरत!
बहुत करीब से मिलने लगा हूँ
ज़िन्दगी तुझसे आजकल,
जैसे कोई मुद्दतों बाद मिलता है अपनों से
बाहों में बाहें डाल कर!

~ साहिल