Karwatein || करवटें

इक हवा का झोंका
छू कर गुज़रता है जैसे,
कुछ लगा ऐसे
कि जैसे गलियों में घूमता हुआ,
नज़रें चुराता, मुझसे, खुदसे,
इक अरसा गुज़र गया।
वो नज़रों में रहनुमा एक साहिल
जहाँ से गुज़रती थी रंगीन शामें,
वो साहिल अब धुंधलाने लगा है।
इन आँखों के परदों ने
कुछ यूँ करवट ली है,
लगा जैसे ज़िन्दगी के कई सपनों में से
इक खूबसूरत मासूम सपना
बह कर गुज़र गया!!!

वो रोज़मर्रा की आदतें
जिसमे तुम्हारी भी आदत शामिल थी,
देखते ही देखते न जाने कब
उन आदतों से रिश्ता टूट गया,
वक़्त ने कुछ इस कदर बदली करवट,
जाने कब हमें अजनबी के दायरे पर ला कर,
वो वक़्त गुज़र गया।
बदलते मौसम की तरह
करवट लेने लगे है वक़्त के तेवर भी आजकल,
कभी खुशियों से बरस आया है
तो कहीं अधूरे से ख्वाब दिखाकर,
वो मौसम गुज़र गया।।।

मैंने लहरों मे उछलते देखा है कश्तियों को,
बड़ी खुन्नस के साथ रुख बदल लेती है
किनारों पर आते ही।
कुछ ऐसा ही हाल देख रहा हूँ,
करवटें बदल कर जी रहा हूँ,
जाने कब कैसे करवट बदलेगी
ये ज़िन्दगी की कश्ती,
सिलवटों के दौर से बसर रहा हूँ।।।

~ साहिल
(11th August, 2016)

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s